19.6.17

विवाह मे बाधा या देरी होने के अचूक समाधान


शादी में अनावश्यक देरी
चाहे लड़का हो या लड़की अपनी शादी के लिए सभी उत्सुक रहते है और चाहते है कि समय पर उनकी शादी हो जाएँ. खासतौर पर माता पिता अपनी संतानों की शादी के लिए बहुत चिंतित और परेशान रहते है और वे चाहते है कि उनकी संतान को सुयोग्य वर या वधु समय पर मिल जाएँ. शादी लड़कियों के माता पिता के लिए एक बड़ी वजह है क्योकि ये माना जाता है कि लड़की की शादी समय पर ना हो तो उसके लिए रिश्ते मिलना मुश्किल हो जाता है और लड़की का रिश्ता तय होने में कभी कभी रिश्ते टूटते भी है. किन्तु अगर आप कुछ उपायों को अपनाते है तो आपकी इस समस्या का कुछ हद तक समाधान जरुर मिल जाता है. इसलिए आप निम्नलिखित टोटको को पूरी श्रदा और विश्वास के साथ अपनायें. आपको शीघ्र हे अधिक लाभ मिलेगा, जिससे विवाह में आई सारी बाधाये दूर हो जायेंगी
माता पार्वती का विवाह शिव जी से बड़ी कठिनाई और जप के बाद हुआ था. इसलिए माता पार्वती उन सभी कन्याओं पर अपना आशीर्वाद बनाएं रखती है जिनके विवाह में बाधायें आ रही है. माता पर्वती का आशीर्वाद पाने के लिए आप रविवार के दिन एक पीला कपडा लें और उसमे 7 सुपारी, 7 हल्दी की गाँठ, 7 गुड की ढेली, 7 पील फुल, 70 ग्राम चने की दाल, 70 सेंटीमीटर पीला कपडा और 1 पंद्रह का यंत्र रख लें. अब आप इन सबसे माता पार्वती की पूजा करें और पूजन के बाद इन सबको 40 दिनों तक अपने घर में रखें. माता पार्वती के आशीर्वाद से इन 40 दिनों के भीतर ही आपके विवाह के योग बनने आरंभ हो जायेंगे.
·  

अगर किसी कन्या के विवाह में बाधा है तो उसे सोमवार रात 12 बजे से अगले दिन सूर्योदय तक अन्न जल का उपाय रखना है और अगले दिन उसे एक सुखा नारियल लेना है और उसमे चाकू या किसी अन्य नुकीली चीज़ से 1 इंच लम्बा छेद करना है. जब इसमें छेद हो जाएँ तो लड़की इसमें 300 ग्राम तक चीनी या बुरा भर दें. इसके अलावा वे 11 रूपये के पंच मेवे भी लें और उन्हें भी नारियल में ही डाल दें. उन्हें इस नारियल को पीपल के पेड़ के नीचे दबाना है और उसके ऊपर किसी पत्थर या अन्य भारी चीज़ को रखना है. आप इस उपाय को लगातार 7 मंगलवार तक जरुर अपनायें. आपको जरुर लाभ मिलेगा. किन्तु आप इस बात का जरुर ध्यान रखें कि आप इस उपाय को पूरी श्रद्धा से अपनायें
गुरुवार के दिन व्रत रखती है और पीली वस्तुओं जैसे पीले कपडे, चने के दाल, हल्दी, या गुड इत्यादि का दान करती है तो उन्हें शीघ्र ही लाभ मिलता है. साथ ही व्रत के दौरान उन्हें ब्रहस्पति व्रत कथा भी पढनी चाहियें और केले के पेड़ पर जल चढ़ाना चाहियें. ध्यान रहें कि आप दिन में कभी भी न सोयें और श्याम के समय पीला ही भोजन करने. इस तरह आप इस उपाय को 21 गुरुवार तक अपनायें.
· गुरूवार के दिन ही आप एक उपाय और अपना सकते हो जिसमे आप आटे की 2 लोई बनायें और उन्हें पेडे का आकर दें. आप इनके ऊपर थोड़ी सी हल्दी लगा दें और गुड चना लेकर इन्हें किसी गाय को भोग लगवाएं. ध्यान रहे कि गाय को आप अपने हाथो से ही भोग लगवायें. इस उपाय से आपके विवाह के अवसर तो बनते ही है साथ ही अगर आपकी शादी हो चुकी है पर रिश्तों में अनबन है तो आपके रिश्तों के बीच की कडवाहट भी दूर होती है.
 

श्रावण माह के महीने में कन्या को हर सोमवार शिवजी को 108 बेल पत्र चढ़ाना चाहियें ( बेलपत्र पर आप च
न्दन से ॐ नमः शिवाय लिखना ना भूलें. ) और उनसे अपने विवाह के लिए प्रार्थना करनी चाहियें. इसके बाद उसे शिवलिंग के सामने पूजन करना चाहियें और अपने माथे पर तिलक जरुर लगाना चाहियें. इससे आपके शीघ्र और उत्तम विवाह के योग बनते है. इसके साथ ही आप 16 सोमवार का व्रत भी रखें, जिस दौरान आप शिवजी को हर सोमवार मंदिर में जाकर दूध से नहलायें.
· माह में पूर्णिमा के दिन आप वाट के पेड़ की 108 परिक्रमा लगायें और उन्हें मन ही मन विनती करें कि हे प्रभु मेरे विवाह में आई सभी बाधाओं को दूर करें और मुझे मनचाहे वर या वधु का वरदान दें. साथ ही आप उनसे ये भी प्रार्थना करें कि आप दोनों का जीवन सदा खुशियाँ से भरा रहें.
इन उपायों के अलावा आप कुछ घरेलू उपाय भी अपना सकती है जैसेकि आप गुरुवार के दिन नहाते समय अपने पानी में थोडा सा नमक और हल्दी मिला लें और उसके बाद स्नान करें.
जब आपके विवाह की बाते चल रही हो तो उस वक़्त आप अपने बालों को खुलें रखें. साथ ही अगर आप अपनी किसी सहेली के विवाह में जा रही है तो आप उनके हाथ में लगी मेहँदी से कुछ मेहँदी पाने हाथ में लगायें. इससे भी जल्द आपकी शादी के योग बनते है.
· आप अपने पलंग के नीचे से लोहे के सामान को निकाल दें और बाकी सारी चीजों को सही और साफ़ सुथरी तरह रखें. हो सके तो आप सामान्य पलंग का इस्तेमाल करें.

कोई टिप्पणी नहीं: