26.5.17

झाड़ू के चमत्कारी टोटके, जो करेंगे आपको मालामाल





अगर हमारे द्वारा झाड़ू के मान-सम्मान में कमी होती है, तो इसका असर निश्चित ही हमारे जीवन, हमारी कमाई, परिवार की आर्थिक संपन्नता पर पड़ता है। यह घर में रह रहे व्यक्तियों पर नकारात्मक प्रभाव डालती है।
अत: झाड़ू का नियमित उपयोग करते समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना बहुत आवश्यक होता है.
* सूर्यास्त होने के बाद कभी भी झाड़ू और पोछा गलती से नहीं लगाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस गलती की वजह से आपके बुरे दिन शुरू हो सकते हैं।
* झाड़ू बुहारने के बाद हमेशा साफ करके रखें, झाड़ू गिली नहीं छोड़ना चाहिए।
* सपने में झाड़ू देखने का मतलब होता है, आपका आर्थिक नुकसान होने वाला है।
* बहुत ज्यादा समय से उपयोग में नहीं आ रही पुरानी झाड़ू को घर में न रखें।
* जब भी नई झाड़ू उपयोग में लानी हो तो, शनिवार से उसका उपयोग शुरू करें। शास्त्रों के अनुसार झाड़ू को भी महालक्ष्मी का ही एक स्वरूप माना गया है। झाड़ू से दरिद्रता रूपी गंदगी को बाहर किया जाता है। जिन घरों के कोने-कोने में भी सफाई रहती है, वहां का वातावरण सकारात्मक रहता है। घर के कई वास्तु दोष भी दूर होते हैं। साथ ही, इनसे जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो महालक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त की जा सकती है।
 

महालक्ष्मी की कृपा पाने के लिए करें झाड़ू का ये उपाय-
देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए घर के आसपास किसी भी मंदिर में तीन झाड़ू रख आएं। यह पुराने समय से चली आ रही परंपरा है। पुराने समय में लोग अक्सर मंदिरों में झाड़ू दान किया करते थे।
माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए किसी बहुत बड़े तंत्र-मंत्र-यंत्र की जरूरत नहीं है ना ही किसी पूजा-पाठ की। मां को प्रसन्न कर मनचाहा वरदान करने के लिए आपको केवल झाड़ू से जुड़ी कुछ बातों को ध्यान रखना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार झाडू को मां महालक्ष्मी का ही रूप माना गया है। माना जाता है कि जिस घर में पूरी तरह से साफ-सफाई रहती है वहां वास्तु दोष भी खत्म होता है और घर में आती है।
मां लक्ष्मी की कृपाप्राप्ति के अपने घर के आसपास के किसी मंदिर में ब्रह्म मुहूर्त (सुबह सूर्योदय के समय) में तीन झाडूओं(Brooms) का गुप्त दान (बिना किसी को बताए) करें। झाडू दान करने में इन बातों का ध्यान रखें।
मंदिर में झाडू दान करने के पहले शुभ मुहूर्त अवश्य देख लें। यदि उस दिन कोई शुभ योग (यथा पुष्य या रवि नक्षत्र) हो, त्यौहार (जैसे दीवाली, दशहरा आदि) हो तो इस दान की महत्ता बहुत बढ़ जाती है और घर में स्थाई लक्ष्मी का वास होता है। जिस दिन भी यह काम करना हो, उसके एक दिन पहले ही आपको 3 झाडू खरीदकर ले आना चाहिए।
जब भी किसी नए घर में प्रवेश करें, उस समय नई झाड़ू लेकर ही घर के अंदर जाना चाहिए। यह शुभ शकुन माना जाता है। इससे नए घर में सुख-समृद्धि और शांति बनी रहेगी।
झाडू (Broom) को सदैव छिपा कर रखें। मेहमानों को दिखते स्थान पर झाडू रखना अपशकुन माना जाता है। परन्तु रात के समय घर के मुख्य दरवाजे के सामने झाडू रखने से घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं कर पाती।
भोजन कक्ष, रसोई अथवा भंडार गृह में कभी झाडू न रखें। इससे घर के संसाधनों में कमी आती है।
झाड़ू(Broom) को कभी भी खड़ी करके नहीं रखना चाहिए। यह अपशकुन माना गया है।
झाड़ू(Broom) पर गलती से भी पैर नहीं रखना चाहिए। ऐसा होने पर लक्ष्मी रूठ जाती हैं। यह अपशकुन है।

  
एक टिप्पणी भेजें