5.1.17

तरुण सागर जी के अनमोल वचन, सुविचार व कडवे प्रवचन


Muni Shri Tarun Sagar Ji Maharaj Quotes Hindi – भले ही लड़ लेना झगड़ लेना पिट जाना पीट देना मगर बोलचाल बंद मत करना क्यूंकि बोलचाल के बंद होते ही सुलह के सारे दरवाजे बंद हो जाते हैं – मुनि श्री तरुण सागर जी
मुनि श्री तरुण सागर जी महाराज के अनमोल विचार – कभी तुम्हारे माँ- बाप तुम्हे डांट दें तो बुरा मत मानना, बल्कि सोचना गलती होने पर माँ बाप नहीं डाटेंगे तो कौन डाटेंगे, और कभी छोटो से कोई गलती हो जाए तो ये सोचकर उन्हें माफ़ कर देना कि, गलतियाँ छोटे नहीं करेंगे तो और कौन करेगा – Muni Shree Tarun Sagar Ji Maharaj
Tarun Sagar Ji Maharaj Kadve Pravachan – डाक्टर और गुरु के सामने झूठ मत बोलिये क्योंकिं यह झूठ बहुत महंगा पड सकता है । गुरु के सामने झूठ बोलने से पाप का प्रायश्चित नही होगा, डाक्टर के सामने झूठ बोलने से रोग का निदान नहीं होगा । डाक्टर और गुरु के सामने एकदम सरल और तरल बनकर पेश हो । आप कितने ही होशियार क्यों न हो तो भी डाक्टर और गुरु के सामने अपनी होशियारी मत दिखाइये, क्योंकिं यहां होशियारी बिल्कुल काम नहीं आती – मुनि श्री तरुण सागर जी
Tarun Sagar Ji Suvichar Hindi – धनाढ्य होने के बाद भी यदि लालच और पैसों का मोह है, तो उससे बड़ा गरीब और कोई नहीं हो सकता है। प्रत्येक व्यक्ति ‘लाभ’ की कामना करता है, लेकिन उसका विपरीत शब्द अर्थात ‘भला’ करने से दूर भागता है – मुनि श्री तरुण सागर जी
Tarun Sagar Ji Maharaj Quotes On Money – धन का अहंकार रखने वाले हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि पैसा कुछ भी हो सकता है, बहुत कुछ हो सकता है, लेकिन सब कुछ नहीं हो सकता। हर आदमी को धन की अहमियत समझना बहुत जरूरी है – मुनि श्री तरुण सागर जी
एक टिप्पणी भेजें